प्रेग्नेंसी के लक्षण और टेस्ट | Pregnancy symptoms and tests

जब दिखने लगे ये संकेत तो तुरंत कल ले Pregnancy Test

आमतौर पर सुनने को मिलता हैं कि जब पीरियड्स आना बंद हो जाए तो यह प्रैग्नेंसी का संकेत हैं। मगर बदलते लाइफस्टाइल व गलत आदतों के कारण अधिकतर महिलाओं को अनियमित पीरियड्स का सामना करना पड़ता हैं जिस वजह से अक्सर महिलाएं गलतफही में पड़ जाती हैं। वैसे तो आप अपनी इस दुविधा को दूर करने के लिए शारीरिक संबंध बनाने के 21 दिनों के अंदर-अंदर अपना प्रैग्नेंसी टेस्ट कर सकती है। अगर आप ऐसा नहीं कर पाती तो ऐसे में आपको गर्भावस्था के संकेतों को जान लेना चाहिए। मगर अधिकतर महिलाएं प्रैग्नेंसी में दिखने वालों कुछ संकेतों को इग्नोर कर देती हैं जिस वजह से उन्हें पछताना भी पड़ता है। आज हम आपको कुछ ऐसे ही लक्षण के बारे में बताएंगे, जिनके दिखने पर तुरंत  Pregnancy Test कर लें।

Pregnancy-symptoms-and-tests

पेट में मरोड़

वैसे तो गलत खानपान या अन्य हैल्थ प्रॉब्लम के दौरान भी पेट में मरोड पड़ने की समस्या हो सकती हैं लेकिन अगर आपको पीरियड्स नहीं आ रहे और पेट में बार-बार मरोड़ पड़ रहा हैं तो तुरंत Pregnancy Test कर लें, ताकि कोई दिक्कत न हो।

ब्रैस्ट में दर्द

अधिकतर बार महिलाएं इस संकेत को मामूली या किसी अन्य हैल्थ प्रॉबल्म की समस्या मान लेती हैं। मगर यह Pregnancy का संकेत भी हो सकता हैं। दरअसल, प्रैग्नेंसी के दौरान शरीर में एस्ट्रोजन व प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन की मात्रा बढ़ने लगती हैं जिस वजह से ब्रैस्ट में भारीपन व दर्द महसूस होने लगते हैं। अगर आपको भी इस तरह के संकेत नजर आए तो तुरंत प्रैग्नेंसी टेस्ट कर लें।

मूड स्विंग होना


प्रैग्नेंट होने के बाद हार्मोनल चेंज होता हैं और अक्सर महिला को मूड स्विंग की समस्या रहने लगती हैं। मूड स्विंग होने पर महिलाएं अधिक भावुक रहने लगती हैं और ऐसी स्थिति में अकेला रहना पसंद करती हैं। अगर आपके साथ भी ऐसा हो रहा है तो इस संकेत को नजर अंदाज न करें।

आलस महसूस होना

वैसे तो कमजोरी के कारण भी आपको अक्सर आलस व थकावट महसूस हो सकती हैं लेकिन अगर आपको बिना ज्यादा काम किए व भरपूर नींद लेने के बावजूद भी आलस महसूस हो रहा हैं और बार-बार सोने का मन करता हैं तो प्रैग्नेंसी टेस्ट कर लें। दरअसल, प्रैग्नेंसी में ब्लड सर्कुलेशन कम होने के कारण ऐसा होता है।

बार बार यूरीन पास करना

वैसे तो बार-बार यूरिन पास होना किसी अन्य हैल्थ प्रॉबल्म को लक्षण भी हो सकता है लेकिन अगर आपको पीरियड्स बंद होने के साथ साथ सामन्य से ज्यादा यूरिन आ रहा है तो यह प्रैग्नेंसी की और इशारा करता हैं। ऐसे में या तो डॉक्टर से संपर्क करें या फिर घर पर ही Pregnancy Test करें।

शरीर मे सूजन

प्रैग्नेंसी में प्रोजेस्टरोन हार्मोन बढ़ने लगते हैं जिस वजह से ज्यादा से ज्यादा पानी की प्यास लगेगी। ज्यादा मात्रा में पानी पीने से शरीर में पानी की मात्रा भी बढ़कर सूजन में बदल जाती हैं और कपड़े टाइट होने लगते हैं। अगर आपके साथ भी ऐसा हो रहा है तो थोड़ा सावधान हो जाए।

हलकी ब्लीडिंग होना

वैसे तो प्रैग्नेंसी में पीरियड्स बंद होना आम हैं लेकिन अधिकतर महिलाओं में स्पॉटिंग के लक्षण भी दिखाई देते हैं। स्पॉटिंग में हल्की ब्लीडिंग होती हैं जिसे अधिकतर महिलाएं अनियमित पीरियड्स की समस्या या मामूली बात मानकर अनदेखा कर देती हैं जो कि बिल्कुल गलत हैं। दरअसल, प्रैग्नेंसी में कई बार पूरी तरह से पीरियड मिस नहीं होते हैं।

गैस बनना

दोस्तों, जब महिलाएं गर्भधारण करती हैं तो उनको गैस की समस्या होने लगती हैं और उनके पाचन तंत्र पर भी असर पड़ता है। कई महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान सीने में दर्द भी होने लगती है और कोई महिला ऐसा महसूस कर रही हैं तो समझ जाएं वह प्रेग्नेंट हो चुकी हैं।

Pregnant होने के कितने दिन बाद  और क्यों शुरू होती है उल्टियां


जब कोई महिला गर्भवती होती हैं तो गर्भावस्था में उसे उल्टी आने की समस्या होती हैं। लेकिन वैसी महिलाएं जो बच्चे की प्लानिंग कर रही होती हैं। उनके मन में इस बार की चिंता रहती हैं की गर्भधारण के कितने दिन बाद उल्टी हो सकती हैं। आज इसी संदर्भ में जानने की कोशिश करेंगे की गर्भधारण करने के कितने दिन बाद होती हैं उल्टी। साथ हीं साथ ये भी जानने की कोशिश करेंगे की गर्भधारण करने के बाद आखिर उल्टी क्यों होती हैं। तो आइये जानते हैं विस्तार से।

1 .जब कोई महिला गर्भधारण करती हैं तब उसके गर्भाशय में भूर्ण का निर्माण होने लगता हैं। साथ हीं साथ महिला के शरीर में कई तरह के हार्मोनिक बदलाव होते हैं। इस दौरान शरीर में पानी की कमी हो जाती हैं। साथ हीं साथ शरीर का पाचन तंत्र ठीक तरीकों से काम नहीं करता हैं। जिसके कारण महिलाओं को उल्टी होने की समस्या होने लगती हैं। इससे महिलाओं को चिंता करने की कोई ज़रूरत नहीं हैं। क्यों की यह गर्भधारण करने के बाद होना वाला एक नॉर्मल समस्या हैं।

2 . Pregnancy के शुरूआती दिनों में महिलाओं के शरीर में भूर्ण विकसित होने में कम से कम 10 से 15 दिन का समय लग जाता हैं। इसके बाद महिलाओं में उल्टी होने की समस्या उत्पन हो जाती हैं। साथ हीं साथ महिलाओं के शरीर में कई तरह के बदलाव होने लगते हैं। लेकिन कुछ महिलाओं को प्रेगनेंसी के शुरूआती समय में उल्टी की समस्या नहीं होती हैं। ये महिलाओं के शरीर में मौजूद हार्मोन्स पर निर्भर करता हैं।

3 .गर्भधारण करने के बाद 7 से 10 दिन के अंदर कुछ महिलाओं को सुबह उठाने के बाद उल्टी करने का मन करता हैं। ऐसा उनके शरीर में हो रहे हार्मोनिक परिवर्तन के कारण होता हैं। धीरे धीरे ये समस्या बढ़ती जाती हैं और महिलाएं उल्टी करने लगती है। उल्टी करने की ये समस्या गर्भधारण करने के तीन महीने तक होता रहता हैं ।इस दौरान महिलाओं को खूब पानी पीना चाहिए। इससे पाचन तंत्र ठीक रहेगा और उल्टी की समस्या भी कम होगी।

4 .गर्भधारण करने के बाद अगर किसी महिला को ज्यादा उल्टी की समस्या होती हैं तो उसे दिन में दो से तीन बार आंवला का मुरब्बा खाना चाहिए। इससे महिला को राहत मिलेगी और उल्टी की ये समस्या धीरे धीरे कम हो जाएगी। साथ हीं साथ आंवला के सेवन से महिला का पाचन तंत्र ठीक तरीकों से काम करेगा और महिलाएं खुद को स्वस्थ और सेहतमंद महसूस करेगी। इसका उपयोग सभी गर्भवती महिलाएं कर सकती हैं।

5 . गर्भ के शुरूआती समय में उल्टी होना अच्छी बात होता हैं। इससे गर्भ में भूर्ण का निर्माण सही तरीकों से होता हैं। लेकिन वैसी महिलाएं जिनके गर्भ में जुड़वा बच्चा होता हैं। उनको उल्टी की समस्या दुगनी होती हैं। जिससे महिला का शरीर कमजोर हो जाता हैं। इस अवस्था में महिलाओं को डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए और समय समय पर अपने शरीर का चेकअप कराते रहना चाहिए। जिन महिलाओं के गर्भ में जुड़वा बच्चा होता हैं। उन्हें गर्भधारण करने के 7 दिन के अंदर हीं उल्टी होने लगती हैं।

किट से Pregnancy Test करते समय अपनाएं ये टिप्स मिलेगा सही रिजल्ट

Pregnancy को चेक करने के लिए बाजार में अनेक प्रकार की किट उपलब्ध होने लग गई है| इन किट का उपयोग करके आप पता लगा सकती है कि आप प्रेग्नेंट है या नहीं| इन प्रेगनेंसी किट का इस्तेमाल धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा है| अगर आपको समय पर मासिक धर्म नहीं आ रहे हैं तो आप ऐसे किट का उपयोग करके पता लगा सकती हैं कि कहीं आप प्रेग्नेंट तो नहीं है| यह किट उपयोग करने में भी बेहद ही आसान होते हैं| लेकिन इनका रिजल्ट कई बार सही नहीं होता है| इन किट का इस्तेमाल करते समय हमें कुछ सावधानियां बरतनी की जरूरत होती है ताकि इन का रिजल्ट सही प्रकार से आ सके| आइए जानते हैं उनके बारे में...

कैसे काम करती है Pregnancy kit

Pregnancy स्ट्रिप्स को यूरिन में डालकर यह चेक किया जाता है कि यूरिन में कितना ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन हार्मोन्स है| अगर यूरिन में यह हार्मोन उपस्थित होता है तो आप गर्भवती हैं| अगर यूरिन में हार्मोन उपस्थित नहीं होता है तो आप गर्भवती नहीं है| इस हार्मोन का उत्पादन शरीर में तब होता है जब गर्भ के अंदर भ्रूण का विकास होने लग गया हो| गर्भवती होने के 1 या 2 सप्ताह के बाद किट का उपयोग करके आप इस हार्मोन का पता लगा सकते हैं|

Pregnancy Kit का प्रयोग करते समय बरतें ये सावधानियां

1. सुबह के पहले यूरीन से टेस्ट करें

ज्यादातर महिलाएं दिन के किसी भी समय प्रेगनेंसी टेस्ट का उपयोग करती हैं| जिससे इसका रिजल्ट सही नहीं आ पाता है| सुबह जब आप पहली बार यूरिन करने जाए उस समय इस टेस्ट किट का उपयोग करना चाहिए ताकि सही प्रकार से इसका परिणाम हमें मिल सके|

2. 72 घंटे में दुबारा जरुर चेक करें

अगर एक बार चेक करने के बाद आप का रिजल्ट नेगेटिव आ रहा है तो कंफर्म करने के लिए 72 घंटे के अंदर एक बार दोबारा जरूर चेक करें क्योंकि गर्भावस्था की शुरुआत में कई बार रिजल्ट नेगेटिव आ सकता है| ऐसे में 72 घंटे के अंदर दोबारा चेक करके आप सही परिणाम प्राप्त कर सकते हैं|

3. फिजिकल रिलेशन के 10 दिन बाद करें टेस्ट

गर्भधारण होने के 10 दिन के बाद हम यूरिन में एचसीजी हार्मोन का पता लगा सकते हैं| कई बार यह दिनों की संख्या ज्यादा भी हो सकती है| अगर हम अच्छा प्रेगनेंसी किट इस्तेमाल करते हैं तो 10 दिन के बाद आसानी से हमें प्रेगनेंसी का पता चल जाता है|

4. टेस्ट करने से पहले पानी या जूस ना पीएं

अगर आप प्रेगनेंसी टेस्ट किट का इस्तेमाल कर रही है तो इसके 1 घंटे पहले हमें कुछ भी नहीं पीना चाहिए| अगर आप प्रेगनेंसी टेस्ट किट इस्तेमाल करने से पहले पानी या जूस पीती है तो इससे आपका एचसीजी हार्मोन का स्तर बदल सकता है|

5. पाॅजीटिव रिजल्ट आने पर क्या करें

एक गर्भवती महिला के लिए शुरुआती 3 महीने बहुत ही संवेदनशील होते हैं| इन दिनों अगर आप कोई गलती करते हैं तो गर्भपात की संभावना भी बनी रहती है| अगर आपका  Pregnancy Test पॉजिटिव आया है तो हमें उसी समय से प्रेग्नेंसी से संबंधित सावधानियां बरतनी शुरू कर देनी चाहिए|

हमें उम्मीद है कि महिलाओं को यह जानकारी अच्छी लगेगी| अगर आप हमसे इसी प्रकार की जानकारी चाहती हैं। तो हमारे साथ जुड़े रहिए।

यह भी पढ़ें :- 
गर्भ अवस्था के दौरान पेट पर पड़े Stretch Marks को कैसे हटाएं।

Smart Parents कैसे बनें। Smart Parents बनना है तो अपनाएं ये टिप्स

अगर Smart Parents बनाना चाहते हैं तो अपनाएं ये टिप्स

अपने बच्चों के साथ रिश्ते कैसे मजबूत करें

Post a Comment

0 Comments